Modem kya hai? Types-Features ka संयोजन

आज हम एक उदाहरण से शुरुवात करते हुए समझेंगे की Modem kya hai? इसके फायदे क्या-क्या होसकते है? और modem kitne prakar ke hote hai? आप किसी को मैसेज भेजते है online या कोई डाटा शेयर करते है या किसी भी प्रकार का कनेक्शन बिल्ड करते है अपने कंप्यूटर से किसी अन्य व्यक्ति के कंप्यूटर में तब आप बिना किसी उलझन के बड़ी ही जल्दी शेयरिंग प्रोसेस पूर्ण करलेते है।

अन्य अद्भुत जानकारियों के लिए यहाँ देखिये : https://mycarpeting.blogspot.com/

किन्तु असल में इसके पीछे जो मेहनत लगती है उसका सारे श्रेय modem को जाता है क्योकि ये एक ऐसा hardware device है जो आपके कंप्यूटर से भेजे गए डिजिटल सिग्नल्स को एनालॉग सिग्नल्स में बदल के और उन एनालॉग सिग्नल्स में आपकी जानकारी encode करके receiver के कम्यूटर तक लेजाता है अथवा वहा लेजाकर आपकी जानकारी को decode करके वापिस डिजिटल सिग्नल्स में बदल कर receiver के device में दर्शाता है।

इस क्रिया में encoding वाले कार्यक्रम को “Modulation” भी कहा जाता है और decoding के वक़्त किये जाने वाले प्रोसेस को “Demodulation” कहा जाता है जिसके कारणवश Modulation का “Mo” अथवा Demodulation का “dem” मिलकर “Modem” को उसका नाम दिया गया।

Modem kya hai

अब ये पूरा तरीका सुनके आपके दिमाग में ज़रूर ये सवाल आया होगा की कहि इस काम में ज्यादा समय तो नहीं लगता? आपका सवाल जायज़ है किन्तु मॉडेम ये पूरा कार्यक्रम चंद seconds में निपटाकर आपका समय बचता है।

इस विषय के आलावा और भी कई विषय हमारे पास है जिन्हे पढ़के शायद आपको और भी बहुत कुछ सीखने को मिलजाए :

इसी के साथ हमने यह जाना की modem kya hai और अब बारी है इसकी विशेषताओं की।

Modem ki kuch विशेषताएं

1) Data Compression

Data compression की सुविधा की मॉडेम में बहुत ज्यादा ज़रूरत होती है क्योकि एनालॉग सिग्नल्स ज्यादा डाटा और बड़े size की information स्टोर नहीं कर सकते इससे उनकी गति में बहुत गिराव आजाता है अथवा transmission में भी दिक्कतों को सामना करना पढ़ सकता है। इस कारण से मॉडेम में डाटा compression की विशेषता डाली गयी।

2) Flow Control

इस विशेषता का यह दर्शाना है की अगर दो मॉडेम आपस में सिग्नल्स का transmission कर रहे है और उनमे से एक अगर तेज़ी से काम करता है वही दूसरी ओर एक धीरे काम करता है तो यह परेशानी बढ़ा सकता है धीरे काम करने वाले मॉडेम के लिए क्योकि इस वजह से तेज़ी गति वाले मॉडेम द्वारा तेज़ी से भेजे गए ढेर सारे सिग्नल्स को संभालना दूसरे मॉडेम पे लोड बढ़ा सकता ह। इसलिए मॉडेम एक दूसरे को character सिग्नल भेजते है जो उन्हें रुकने का आदेश देता है।

3) Error Correction

मॉडेम में error करेक्शन की सुविधा भी उपलब्ध है जिसकी मदद से मॉडेम डाटा सिग्नल्स में आरहे सभी errors को ढूंढ कर सही सिग्नल भेजने में हमारी सहायता करता है।

आगे बढ़ने से पहले ये देखना फायदेमंद रहेगा: https://mycarpeting.blogspot.com/2022/09/Clean%20AREA%20RUGS%20without%20water.html

विभिन्न prakar ke Modem kya hai?

1) Internal Modem kya hai?

इंटरनल मॉडेम हमारे कम्प्यूटर्स के अंदर उसके एक हिस्से की तरह पूर्व स्थापित होता है जिसका सबसे बड़ा फायदा यह है की इसे चलने के लिए बाहरी पावर सोर्स की आवश्यकता नहीं होती यह कंप्यूटर की पावर सप्लाई पे काम करता है और इसी के साथ साथ यह external मॉडेम से सस्ता भी होता है।

2) External Modem kya hai?

External मॉडेम हार्डवेयर डिवाइस होता है जिसे केबल के ज़रिये कंप्यूटर से connect कर सकते है जिसके कारणवश यह एक्स्ट्रा पावर सप्लाई इस्तेमाल करता है और इंटरनल मॉडेम से महंगा होता है। किन्तु क्योकि यह external है इसलिए इसे आसानी से एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में shift किया जा सकता है वही दूसरी ओर इंटरनल मॉडेम को shift नहीं कर सकते।

3) Satellite Modem kya hai?

सॅटॅलाइट मॉडेम सॅटॅलाइट dishes के द्वारा इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध करवाता है जिसमे इनपुट सिग्नल्स को रेडियो वेव्स में बदला जाता है ट्रांसमिशन के लिए। तथा यह बाकी modems में से सबसे महंगा होता है।

4) Telephone Modem क्या होते है?

जब भी आपको कोई मॉडेम ऐसा मिले जिसे टेलीफोन लाइन्स के द्वारा कनेक्ट करके नेटवर्किंग की जा रही ह तो वह मॉडेम टेलीफोन मॉडेम कहलाया जाता है। बाकी मोड़ेम्स के मुकाबले यह सस्ता और आसानी से मिल जाता है।

आशा करते है आपको यह लेख “modem kya hai” को पढ़ने में आनंद आया होगा ओर आपको कुछ नया सीखने को मिला होगा।

Leave a Comment